गुरु. जुलाई 11th, 2024

    Chaitra Navratri 2024: विशेष चीज़ें

    Chaitra Navratri 2024 घटस्थापना विधि दिन 1: आज Chaitra Navratri 2024 का पहला दिन है। यह हिंदुओं के लिए विशेष 9 दिन हैं। हम मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा से शुरुआत करते हैं। Chaitra Navratri 2024 9 दिनों तक चलती है, और प्रत्येक दिन, हम देवी दुर्गा के एक अलग रूप की पूजा करते हैं। इस बार चैत्र नवरात्रि पूरे 9 दिनों तक चलेगी। आज हम घोड़े पर सवार होकर आने वाली मां दुर्गा का स्वागत करते हैं.

    Chaitra Navratri 2024; Chaitra Navratri 2024 Wishes; Chaitra Navratri 2024 India Wishes
    Chaitra Navratri 2024

    Chaitra Navratri 2024: साल में चार बार नवरात्रि आती है

    हिंदू धर्म में नवरात्रि एक विशेष त्योहार है। नवरात्रि के दौरान लोग देवी दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा करते हैं। यह त्यौहार हर साल चार बार होता है। इनमें से दो नवरात्रि प्रसिद्ध हैं और बाकी दो को गुप्त रखा गया है। पहली सामान्य नवरात्रि चैत्र माह में होती है और दूसरी शारदीय नवरात्रि कहलाती है, जो आश्विन माह में मनाई जाती है। इन सामान्य नवरात्रों के दौरान लोग अपने घरों में देवी दुर्गा के सम्मान में पूजा और उपवास करते हैं।

    अन्य दो नवरात्रि गुप्त रखी जाती हैं, जिन्हें गुप्त नवरात्रि के नाम से जाना जाता है, जो माघ और आषाढ़ के महीनों में आती हैं। इन गुप्त नवरात्रों के दौरान तंत्र-मंत्र में रुचि रखने वाले लोग देवी दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए विशेष साधना करते हैं।

    Chaitra Navratri 2024: नवरात्रि के दिन के अनुसार प्रसाद

    नवरात्रि के दौरान लोग देवी मां के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा करते हैं। वे उसे तरह-तरह के उपहार देकर खुश करते हैं। मान्यताओं के अनुसार, अगर आप नवरात्रि के दौरान नौ देवियों को उपहार देते हैं, तो वे बहुत प्रसन्न होंगी और आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी करेंगी। इससे घर में सुख-समृद्धि आती है।

    नवरात्रि 2024 नवरात्रि के दिन माता का भोग
    पहला दिनमां शैलपुत्री देवी देसी घी 
    दूसरा दिनब्रह्मचारिणी देवीशक्कर,सफेद मिठाई,मिश्री और फल
    तीसरा दिनचंद्रघंटा देवीमिठाई और खीर
    चौथा दिनकुष्मांडा देवीमालपुआ
    पांचवां दिनस्कंदमाता देवीकेला
    छठा दिनकात्यायनी देवीशहद 
    सातवां दिनकालरात्रि देवीगुड़
    आठवां दिनमहागौरी देवीनारियल
    नौवां दिनसिद्धिदात्री देवीअनार और तिल

    हनुमान जयंती: इस साल कब है हनुमान जयंती? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा का महत्व


    Chaitra Navratri 2024: नवरात्रि के नौ दिन और नौ देवियां

    आज विक्रम संवत 2081 नामक हिंदू कैलेंडर में नए साल का पहला दिन है। यह नवरात्रि नामक त्योहार की शुरुआत भी है, जो नौ दिनों तक चलता है। नवरात्रि के दौरान, लोग दुर्गा नामक देवी की पूजा करते हैं। इनकी पूजा करना तो अच्छा है ही, लेकिन नवरात्रि में तो और भी अच्छा है. इन नौ दिनों में लोग मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा करते हैं। इन रूपों को मां शैलपुत्री, मां ब्रह्मचारिणी, मां चंद्रघंटा, मां कूष्मांडा, मां स्कंदमाता, मां कात्यायनी, मां कालरात्रि, मां महागौरी और मां सिद्धि दात्री कहा जाता है।

    चैत्र नवरात्रि 2024

    दिननवरात्रि दिनतिथि पूजा-अनुष्ठान 
    09 अप्रैल 2024नवरात्रि दिन 1प्रतिपदा  मां शैलपुत्री पूजा घटस्थापना
    10 अप्रैल 2024 नवरात्रि दिन 2    द्वितीया  मां ब्रह्मचारिणी पूजा
    11 अप्रैल 2024  नवरात्रि दिन 3    तृतीया  मां चंद्रघंटा पूजा
    12 अप्रैल 2024  नवरात्रि दिन 4 चतुर्थी  मां कुष्मांडा पूजा
    13 अप्रैल 2024  नवरात्रि दिन 5पंचमी  मां स्कंदमाता पूजा
    14 अप्रैल 2024 नवरात्रि दिन 6षष्ठी  मां कात्यायनी पूजा
    15 अप्रैल 2024नवरात्रि दिन 7  सप्तमी  मां कालरात्रि पूजा
    16 अप्रैल 2024  नवरात्रि दिन 8अष्टमी  मां महागौरी दुर्गा महाअष्टमी पूजा
    17 अप्रैल 2024नवरात्रि दिन 9नवमी    मां सिद्धिदात्री, राम नवमी

    Chaitra Navratri 2024: चैत्र नवरात्रि शुभ तिथि

    वैदिक कैलेंडर में चैत्र नवरात्रि नामक एक त्यौहार होता है। इसकी शुरुआत चैत्र माह के शुक्ल पक्ष के पहले दिन से होती है। इस साल, पहला दिन 8 अप्रैल को रात 11:50 बजे शुरू हुआ और 9 अप्रैल को रात 8:30 बजे समाप्त होगा। इसके बाद दूसरा दिन, जिसे द्वितीया तिथि कहा जाता है, शुरू हो जाएगा।

    Chaitra Navratri 2024 घटस्थापना पूजा विधि: चैत्र नवरात्रि कलश स्थापना पूजा विधि

    हिंदू कैलेंडर में चैत्र माह के शुक्ल पक्ष के पहले दिन से चैत्र नवरात्रि शुरू होती है। पहले दिन कलश स्थापना का बहुत महत्व है। लोगों का मानना है कि इस दिन देवी दुर्गा स्वर्ग से आती हैं और अपने अनुयायियों को आशीर्वाद देने के लिए 9 दिनों तक रहती हैं। इसलिए पहले दिन कलश स्थापित कर विधि-विधान से मां दुर्गा की पूजा की जाती है। नवरात्रि के दौरान लोग 9 दिनों तक व्रत रखते हैं।

    नवरात्रि के पहले दिन सुबह उठकर अपने घर की अच्छे से साफ-सफाई करें। अपने मुख्य द्वार के दोनों ओर स्वस्तिक बनाएं। सौभाग्य और खुशी के लिए दरवाजे पर ताजे आम या अशोक के पत्तों की एक माला लटकाएं। स्नान करने के बाद एक लकड़ी के चौकी या आसन पर देवी दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति स्थापित करें। पास में स्वस्तिक चिन्ह बनाएं। भगवान गणेश की मूर्ति मां दुर्गा के बायीं ओर रखें. फिर मां दुर्गा के सामने एक मिट्टी के बर्तन में जौ के बीज रखें। ऐसा माना जाता है कि जौ समृद्धि और खुशहाली लाता है।

    यदि आप देवी मां से प्रार्थना करने के लिए कोई विशेष शब्द नहीं जानते हैं, तो आप नवार्ण मंत्र नामक एक विशेष प्रार्थना का उपयोग कर सकते हैं। यह इस प्रकार है: ‘ओम ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे।’ जब आप यह प्रार्थना करें तो देवी को श्रृंगार का सामान और कपड़े से ढका हुआ नारियल चढ़ाएं।

    अपने प्रार्थना क्षेत्र में दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर मुख करके घी वाला दीपक रखें। इसे जलाते समय कहें, ‘ओम दीपो ज्योति: परब्रह्म दीपो ज्योतिर् जनार्दन:’। फिर एक और प्रार्थना पढ़ें: ‘दीपो हरतु में पापम पूजा दीप नमोस्तुते’, और सम्मान के संकेत के रूप में देवी के सामने दीपक लहराएं।

    देवी मां की पूजा के दौरान शुद्ध घी का दीपक जलाते रहें।

    Chaitra Navratri 2024 घटस्थापना मुहूर्त: चैत्र नवरात्रि कलश स्थापना मुहूर्त

    आज से चैत्र नवरात्रि शुरू हो रही है. कलश स्थापना का सर्वोत्तम समय सुबह 11:57 बजे से दोपहर 12:48 बजे तक है. इस समय को अभिजीत कहा जाता है, जो कलश स्थापना जैसे महत्वपूर्ण कार्यों के लिए बहुत भाग्यशाली होता है। इसके लिए एक और अच्छा समय आज सुबह 06:02 बजे से सुबह 10:16 बजे तक है।

    और हिंदी खबरों के लिए Seeker Times Hindi को फॉलो करो| For English News, follow Seeker Times.

    One thought on “Chaitra Navratri 2024: चैत्र नवरात्रि आज से शुरू, कैसे करें कलश स्थापना और क्या है शुभ मुहूर्त”

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

    Mrunal Thakur at Cannes Film Festival 2023 Photos Bollywood at Cannes 2023: Sara, Manushi, and Urvashi.